Can you do Pranayama duringer periods

क्या आप अपने मासिक धर्म के दौरान प्राणायाम कर सकती हैं? सुरक्षित अभ्यास के लिए विशेषज्ञ युक्तियाँ

प्राणायाम एक संस्कृत शब्द है जो दो मूल शब्दों - "प्राण" और "अयमा" से बना है। "प्राण" जीवन शक्ति या महत्वपूर्ण ऊर्जा को संदर्भित करता है जो सभी जीवित प्राणियों के माध्यम से बहती है, जबकि "अयमा" का अर्थ विस्तार या नियंत्रण करना है। इसलिए, प्राणायाम का अनुवाद "जीवन शक्ति के विस्तार या नियंत्रण" के रूप में किया जा सकता है।

योग में, प्राणायाम सांस लेने की तकनीकों के एक सेट को संदर्भित करता है जो शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक कल्याण को बढ़ावा देने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इन तकनीकों में साँस लेना, साँस छोड़ना और सांस रोकना के विभिन्न पैटर्न शामिल हैं, और माना जाता है कि ये शरीर में प्राण के प्रवाह को संतुलित करने में मदद करते हैं।

शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य में सुधार के लिए प्राणायाम का अभ्यास, या किसी की सांस पर नियंत्रण सदियों से इस्तेमाल किया जाता रहा है। हालाँकि, इस बात को लेकर अक्सर विवाद होता है कि महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान प्राणायाम का अभ्यास करना चाहिए या नहीं।

क्या मैं माहवारी के दौरान प्राणायाम कर सकती हूँ?

मासिक धर्म चक्र एक ऐसा समय है जब महिलाओं के शरीर में महत्वपूर्ण परिवर्तन होते हैं, और कुछ को चिंता हो सकती है कि इस दौरान प्राणायाम का अभ्यास करने से नुकसान हो सकता है। इस ब्लॉग पोस्ट में, हम प्राणायाम और मासिक धर्म से जुड़ी सुरक्षा चिंताओं के साथ-साथ मासिक धर्म के दौरान प्राणायाम के अभ्यास के संभावित लाभों का पता लगाएंगे।

यह भी पढ़ें : ग्रीन टी के स्वास्थ्य लाभ

हम यह भी चर्चा करेंगे कि कैसे प्राणायाम महिलाओं के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है, जिसमें हार्मोनल संतुलन को बढ़ावा देना, प्रजनन प्रणाली को मजबूत करना और पुरानी बीमारियों के जोखिम को कम करना शामिल है।

इस लेख के अंत तक, पाठकों को मासिक धर्म चक्र के दौरान प्राणायाम के अभ्यास के सुरक्षा कारणों और संभावित लाभों की बेहतर समझ होगी।

क्या आप पीरियड्स के दौरान प्राणायाम कर सकती हैं?

जबकि माहवारी के दौरान प्राणायाम का अभ्यास करने की सुरक्षा के बारे में चिंता हो सकती है, अच्छी खबर यह है कि मासिक धर्म के दौरान कई प्राणायाम तकनीकों का सुरक्षित और प्रभावी ढंग से अभ्यास किया जा सकता है। हालांकि, संभावित जोखिमों से अवगत होना और असुविधा या चोट से बचने के लिए सावधानी बरतना आवश्यक है।

महिलाएं नाडी शोधन या अनुलोम विलोम श्वास जैसी अधिक कोमल तकनीकों को आजमा सकती हैं, जिसमें धीमी और नियंत्रित श्वास शामिल होती है। अपने शरीर को सुनना और आवश्यकतानुसार ब्रेक लेना या अभ्यास को संशोधित करना भी महत्वपूर्ण है।

पीरियड्स के दौरान प्राणायाम के फायदे

प्राणायाम तनाव और चिंता और अवसाद को दूर करने का एक शानदार तरीका है, खासकर यदि आप पीएमएस या ऐंठन से पीड़ित हैं। अच्छी मात्रा में ध्यान आपको बेहतर नींद में मदद कर सकता है, जिससे आपका शरीर भी अधिक आराम महसूस करेगा।

मासिक धर्म के दौरान प्राणायाम के प्राथमिक लाभों में से एक यह है कि यह मासिक धर्म की ऐंठन को कम करने में मदद कर सकता है। विश्राम को बढ़ावा देकर और तनाव को कम करके, प्राणायाम मांसपेशियों में तनाव कम करने और दर्द कम करने में मदद कर सकता है।

इसके अतिरिक्त, प्राणायाम तनाव और चिंता को कम करने में मदद कर सकता है, जो मासिक धर्म चक्र के दौरान आम हैं। मन को शांत करके और तनाव हार्मोन के उत्पादन को कम करके, प्राणायाम शांति की भावनाओं को बढ़ावा दे सकता है और भावनात्मक लक्षणों की तीव्रता को कम कर सकता है। पीरियड्स के दौरान प्राणायाम का एक अन्य लाभ यह है कि यह पाचन को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है।

कपालभाति जैसी कुछ प्राणायाम तकनीकें पाचन तंत्र को उत्तेजित करने और समग्र पाचन में सुधार करने में मदद कर सकती हैं। इसके अतिरिक्त, प्राणायाम गहरी छूट को बढ़ावा देने, सूजन को कम करने और प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देकर समग्र कल्याण में सुधार करने में मदद कर सकता है।

प्राणायाम को अपनी मासिक धर्म स्व-देखभाल की दिनचर्या में शामिल करके, आप अपने समग्र स्वास्थ्य में सुधार कर सकते हैं और अपनी अवधि से जुड़ी परेशानी को कम कर सकते हैं।

पीरियड के दौरान अलोम विलोम प्राणायाम

मासिक धर्म के दौरान अलोम विलोम प्राणायाम का अभ्यास किया जा सकता है, लेकिन इसे सावधानी के साथ करना चाहिए। कुछ महिलाओं को लग सकता है कि अलोम विलोम सहित प्राणायाम की कुछ तकनीकें मासिक धर्म की ऐंठन को दूर करने, तनाव और चिंता को कम करने और विश्राम को बढ़ावा देने में मदद करती हैं।

क्या मैं माहवारी के दौरान प्राणायाम कर सकती हूँ?

मासिक धर्म के दौरान आसन

मासिक धर्म के दौरान, असुविधा या तनाव से बचने के लिए अपने शरीर को सुनना और आवश्यकतानुसार अपने योग अभ्यास को संशोधित करना महत्वपूर्ण है। मासिक धर्म के दौरान अभ्यास करने के लिए सुरक्षित और फायदेमंद कुछ योग आसनों में शामिल हैं:

  1. आगे की तरफ आराम से बैठने वाली तह: यह मासिक धर्म की ऐंठन को दूर करने और विश्राम को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है।

  2. सपोर्टेड ब्रिज पोज़: यह पोज़ पीठ के निचले हिस्से के दर्द को दूर करने और विश्राम को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है।

  3. वाइड-लेग्ड स्टैंडिंग फ़ॉरवर्ड फोल्ड: यह मासिक धर्म की ऐंठन को दूर करने और तनाव को कम करने में मदद कर सकता है।

  4. बच्चे की मुद्रा: यह मुद्रा पीठ के निचले हिस्से के दर्द को दूर करने, तनाव कम करने और विश्राम को बढ़ावा देने में मदद कर सकती है।

  5. दीवार पर पैर रखना: यह थकान को कम करने, परिसंचरण में सुधार करने और विश्राम को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है।

  6. शव मुद्रा: यह मुद्रा तनाव को कम करने और विश्राम को बढ़ावा देने में मदद कर सकती है।

गोपैड फ्री पीरियड पैंटी

प्राणायाम कैसे महिलाओं के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करता है

प्राणायाम एक शक्तिशाली अभ्यास है जो कई तरह से महिलाओं के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। यहाँ कुछ तरीके दिए गए हैं जिनसे प्राणायाम महिलाओं के स्वास्थ्य को लाभ पहुँचा सकता है:

  1. हार्मोनल संतुलन को बढ़ावा देता है : मासिक धर्म चक्र को हार्मोन द्वारा नियंत्रित किया जाता है, और इन हार्मोनों में किसी भी असंतुलन से अनियमित अवधि, मिजाज और अन्य लक्षण हो सकते हैं। प्राणायाम तनाव को कम करके और अंतःस्रावी तंत्र के कार्य में सुधार करके हार्मोनल संतुलन को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है। भ्रामरी और चंद्र भेदन जैसी कुछ प्राणायाम तकनीकें भी मासिक धर्म चक्र को विनियमित करने में मदद कर सकती हैं।

  2. प्रजनन प्रणाली को मजबूत करता है: प्राणायाम श्रोणि क्षेत्र में रक्त प्रवाह को बढ़ावा देकर और प्रजनन अंगों के कार्य में सुधार करके प्रजनन प्रणाली के स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद कर सकता है। इसके अतिरिक्त, प्राणायाम प्रजनन प्रणाली में सूजन को कम करने में मदद कर सकता है, जो एंडोमेट्रियोसिस और पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज जैसी स्थितियों को कम करने में मदद कर सकता है।

  3. पुरानी बीमारियों के जोखिम को कम करता है: शोध ने संकेत दिया है कि प्राणायाम का अभ्यास करने से कई तरह के स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं, जिसमें हृदय रोग, मधुमेह और कैंसर जैसी पुरानी स्थितियों के विकास की संभावना कम होती है। सूजन पर अंकुश लगाने और समग्र शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में वृद्धि करके, प्राणायाम महिलाओं के स्वास्थ्य में सुधार करने और इन बीमारियों के प्रति संवेदनशीलता को कम करने में सहायता कर सकता है।

  4. मानसिक स्वास्थ्य में सुधार: पुरुषों की तुलना में महिलाएं चिंता और अवसाद जैसी मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों का अनुभव करने की अधिक संभावना रखती हैं। प्राणायाम विश्राम को बढ़ावा देने, तनाव कम करने और समग्र स्वास्थ्य में सुधार करके मानसिक स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद कर सकता है। प्राणायाम भी संज्ञानात्मक कार्य में सुधार कर सकता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट के जोखिम को कम कर सकता है।

  5. समग्र कल्याण को बढ़ावा देता है: प्राणायाम एक समग्र अभ्यास है जो समग्र स्वास्थ्य और कल्याण में सुधार कर सकता है। विश्राम को बढ़ावा देने, तनाव कम करने और शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार करके, प्राणायाम महिलाओं को अधिक ऊर्जावान, केंद्रित और लचीला महसूस करने में मदद कर सकता है।

शोध से पता चला है कि नियमित रूप से प्राणायाम करने से मासिक धर्म के दर्द, ऐंठन और पीएमएस के अन्य दुष्प्रभावों को कम करने में मदद मिल सकती है, जो इसे इस स्थिति वाली महिलाओं के लिए एक आदर्श विकल्प बनाता है।

क्या मैं माहवारी के दौरान प्राणायाम कर सकती हूँ?

मासिक धर्म के दौरान प्राणायाम पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q1: सबसे अच्छा प्राणायाम कौन सा है?

ए: यह कहना मुश्किल है कि कौन सा प्राणायाम सबसे अच्छा है, क्योंकि प्रत्येक तकनीक के अपने अद्वितीय लाभ हैं और विभिन्न आवश्यकताओं और वरीयताओं के अनुकूल हैं। हालांकि, कुछ सबसे लोकप्रिय प्राणायाम तकनीकों में उज्जयी , नाड़ी शोधन , कपालभाति , भस्त्रिका और भ्रामरी शामिल हैं।

Q2: उज्जायी प्राणायाम क्या है?

उ: उज्जायी प्राणायाम एक श्वास तकनीक है जिसमें गले के पिछले हिस्से को संकुचित करते हुए नाक से सांस अंदर और बाहर लेना शामिल है। इस तकनीक का प्रयोग अक्सर योग अभ्यास में किया जाता है और विश्राम को बढ़ावा देने, तनाव कम करने और फेफड़ों के कार्य में सुधार करने में मदद कर सकता है।

Q3: नाड़ी शोधन प्राणायाम क्या है?

उत्तर: नाड़ी शोधन प्राणायाम एक श्वास तकनीक है जिसमें वैकल्पिक नासिका श्वास ध्यान शामिल है। यह तकनीक फेफड़ों के कार्य को बेहतर बनाने, तनाव कम करने और विश्राम को बढ़ावा देने में मदद कर सकती है।

Q4: कपालभाति प्राणायाम क्या है?

ए: कपालभाति प्राणायाम एक श्वास तकनीक है जिसमें बलपूर्वक साँस छोड़ना और निष्क्रिय साँस लेना शामिल है। इस तकनीक का उपयोग अक्सर पाचन तंत्र को उत्तेजित करने, ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने और विषहरण को बढ़ावा देने के लिए किया जाता है।

Q5: भस्त्रिका प्राणायाम क्या है?

उत्तर: भस्त्रिका प्राणायाम एक सांस लेने की तकनीक है जिसमें नाक से बलपूर्वक सांस लेना और छोड़ना शामिल है। इस तकनीक का उपयोग अक्सर फेफड़ों की क्षमता बढ़ाने, परिसंचरण में सुधार और विश्राम को बढ़ावा देने के लिए किया जाता है।

Q6: भ्रामरी प्राणायाम क्या है?

उत्तर: भ्रामरी प्राणायाम एक सांस लेने की तकनीक है जिसमें सांस छोड़ते समय गुनगुनाहट की आवाज आती है। यह तकनीक तनाव कम करने, विश्राम को बढ़ावा देने और एकाग्रता में सुधार करने में मदद कर सकती है।

Q7: प्राणायाम मासिक धर्म की ऐंठन को कम करने में कैसे मदद कर सकता है?

उत्तर: प्राणायाम विश्राम को बढ़ावा देकर और तनाव को कम करके मासिक धर्म की ऐंठन को कम करने में मदद कर सकता है, जो मांसपेशियों में तनाव को कम करने और दर्द को कम करने में मदद कर सकता है। कुछ प्राणायाम तकनीकें, जैसे कि नाड़ी शोधन और उज्जायी, परिसंचरण में सुधार और सूजन को कम करके मासिक धर्म की ऐंठन को कम करने में मदद कर सकती हैं।

Q8: क्या पीरियड्स के दौरान प्राणायाम करने से कोई जोखिम जुड़ा है?

उत्तर: माहवारी के दौरान प्राणायाम का अभ्यास आम तौर पर सुरक्षित होता है, लेकिन कुछ सावधानियां न बरतने पर कुछ महिलाओं को असुविधा या चोट लग सकती है। प्राणायाम तकनीकों से बचना महत्वपूर्ण है जिसमें आपकी सांस रोकना या पीरियड्स के दौरान उल्टे पोज़ का अभ्यास करना और अपने शरीर को सुनना और असुविधा पैदा करने वाली किसी भी तकनीक से बचना महत्वपूर्ण है।

आखिरकार

पीरियड्स के दौरान प्राणायाम का अभ्यास करना महिलाओं के लिए सुरक्षित और लाभकारी अभ्यास हो सकता है। जबकि मासिक धर्म के दौरान कुछ प्राणायाम तकनीकों से बचना चाहिए, ऐसी कई कोमल तकनीकें हैं जो मासिक धर्म की परेशानी को कम करने और समग्र स्वास्थ्य और तंदुरूस्ती में सुधार करने में मदद कर सकती हैं।

विश्राम को बढ़ावा देने, तनाव कम करने और शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार करके प्राणायाम किसी भी महिला की स्वयं की देखभाल की दिनचर्या का एक अनिवार्य हिस्सा हो सकता है।

Back to blog

Leave a comment

Please note, comments need to be approved before they are published.